Month: May 2020

शादी के बाद पति और पत्नी के संपर्क के बीच क्या बदलाव आता है?

शादी के बाद पति और पत्नी के बीच संबंध पहला जैसा नहीं रहता है क्योंकि उनको बहुत सारे जिम्मेदारियों से गुजरना पड़ता है इसलिए संपर्क में बदलाव आता है। कुछ लोग कहते हैं कि शादी के बाद का जीवन जीवन नहीं है। और कुछ लोग यह भी कहते हैं कि शादी के बाद, जीवन अधिक …

शादी के बाद पति और पत्नी के संपर्क के बीच क्या बदलाव आता है? Read More »

मेंटली स्ट्रांग किसे कहेंगे | आप कितना मेंटली स्ट्रांग है

मेंटली स्ट्रांग किसे कहेंगे | आप कितना मेंटली स्ट्रांग है दुनिया में रहने के लिए हमें फिजिकली स्ट्रांग और मेंटली स्ट्रांग होना बहुत ही जरूरी हो जाता है। नहितो लोग आपको पीछे चोड़ जाएंगे। ओर अगर आप एकबार इस भागदौड़ भारी जिंदगी में पीछे पड़ जाएंगे तो फिर से सुरूबात से सुरु करना थोड़ा मुश्किल …

मेंटली स्ट्रांग किसे कहेंगे | आप कितना मेंटली स्ट्रांग है Read More »

वास्तविक जीवन में तेड़‌े पेड़ और सीधे पेड़ की सच्चाई

चाणक्य कहते हैं, जंगल में जो पेड़ सीधा होता वह जल्दी काटा जाता है। और जो पेड़ जितना तेढ़ा होता है वह उतना ही देर से काटा जाता है। चाणक्य का यह श्लोक का मतलब क्या है? यह बात तो हम सभी लोग जानते हैं। सीधा पेड़ काटने में उतना दिक्कत होता नहीं है, जितना …

वास्तविक जीवन में तेड़‌े पेड़ और सीधे पेड़ की सच्चाई Read More »

Live Update : সাইক্লোন ঘূর্ণিঝড় আম্ফান

সাইক্লোন ঘূর্ণিঝড় আম্ফন, কি হব হচ্ছে ফলাফল? আম্ফন, আম্ফান, অ্যাম্ফান কলকাতা আই এম ডি এর অনুসারে এই ঘুর্ণবত এর সৃষ্টি দীঘা থেকে ১৭৭ কিমি দূরে দক্ষিণ পূর্ব দিকে। আর এই কারনে এই ঝড় কলকাতা তে বেশি প্রভাব ফেলবে ফনি ঝড় এর থেকে। বিশেষজ্ঞ দের মতে এই ঝড় কলকাতা এর নিকট উত্তর এবং উত্তর পূর্ব এর …

Live Update : সাইক্লোন ঘূর্ণিঝড় আম্ফান Read More »

डिप्रेशन से कैसे बचे ? Depression se kaise bache

डिप्रेशन से कैसे बचे ? Depression se kaise bach कई बार हम जीवन से हार जाते हैं, और कुछ ऐसा निर्णय ले लेते हैं जिससे हमें तो कोई फायदा होता नहीं है। लेकिन हमारे आसपास के लोगों का बहुत नुकसान हो जाता है। सबसे ज्यादा नुकसान उनका होता है जो आपसे बेइंतहा मोहब्बत करते हैं। …

डिप्रेशन से कैसे बचे ? Depression se kaise bache Read More »

Bangla Kobita : দেশের মানুষ রচনা সজল কুণ্ডু | Bengali Poem : Desher Manush By Sajal Kundu | DjM ORIGINALS

দেশের মানুষ সজল কুণ্ড Bangla Kobita : দেশের মানুষ রচনা সজল কুণ্ডু | Bengali Poem : Desher Manush By Sajal Kundu | DjM ORIGINALS   একদিকে, আমলা বসে গামলা বাজায় পুত্র পাকালো গোল করোনা নয়, কিডনি নষ্ট বলো হরিবল। রেশন ওয়ালা বড্ডো চতুর চাল দিতে না চায় তেলের বোতল খাটের নীচে গরীবদের ঠকায়। ক্লাব গুলো …

Bangla Kobita : দেশের মানুষ রচনা সজল কুণ্ডু | Bengali Poem : Desher Manush By Sajal Kundu | DjM ORIGINALS Read More »

अपने जीवन के सफर में सही डिसिशन कैसे लें

हमारे जीवन का जो सफर है वह बहुत लंबा चलता है। इस लंबे सफर में हमें कुछ प्रॉब्लम का सामना करना पड़ता है। प्रॉब्लम का सामना करने वक्त हमें कुछ डिसीजन भी लेना पड़ता है। कई बार तो यह प्रॉब्लम आसानी से सॉल्व हो जाते हैं। लेकिन ऐसा भी एक वक्त आता है जहां पर …

अपने जीवन के सफर में सही डिसिशन कैसे लें Read More »

English Poem : MOM By Subham Saha Mothers Day Special || DjM Originals

MOM Subham Saha   English Poem : MOM By Subham Saha Mothers Day Special || DjM Origin Ma, The first voice pronounced by us Mom Ma, God can’t be everywhere so he created Mom Ma, For whom we got to see the light of world is Mom Ma, The first love is for every child …

English Poem : MOM By Subham Saha Mothers Day Special || DjM Originals Read More »

Bangla Kobita : মা রচনা শুভম সাহা | Bengali Poem : Maa by Subham Saha | DjM Originals

আজ আন্তর্জাতিক বিশ্ব মা দিবসে DjM ORIGINALS এর বিশেষ নিবেদন ‘মা’, রচনা শুভম সাহা মা শুভম সাহা Bengali Kobita : মা রচনা শুভম সাহা | Bengali Poem : Maa by Subham Saha | DjM Originals এক শিশুর প্রথম ডাক মা, মা, ঈশ্বরের আর এক নাম মা, মা, এই জগতের আলাে যার জন্য দেখা সে মা, …

Bangla Kobita : মা রচনা শুভম সাহা | Bengali Poem : Maa by Subham Saha | DjM Originals Read More »

Bangla Kobita : হাত ধরো প্রিয়ে রচনা ডাঃ শুভদীপ প্রামানিক || Bengali Poem : Haat Dhoro Priye by Dr.Subhadeep Pramanik || DjM ORIGINALS

হাত ধরো প্রিয়ে ডাঃ শুভদীপ প্রামানিক Bangla Kobita : হাত ধরো প্রিয়ে রচনা ডাঃ শুভদীপ প্রামানিক || Bengali Poem : Haat Dhoro Priye by Dr.Subhadip Pramanik || DjM ORIGINALS চলো কোথাও লুকাই, হাত ধরো প্রিয়ে,মৃত্যু চলেছে, মিছিল করে রাজপথ দিয়ে,কেউ পালিয়েছে, কেউ মৃত, কেউ বুঁদ মদ ও তামাকে,আমরা ভিক্ষুক, আমি চাইবো তোমায় আর তুমি আমাকে। …

Bangla Kobita : হাত ধরো প্রিয়ে রচনা ডাঃ শুভদীপ প্রামানিক || Bengali Poem : Haat Dhoro Priye by Dr.Subhadeep Pramanik || DjM ORIGINALS Read More »

x